IPS अफसर निंबले के तबादले पर घिरी मान सरकार: यह है वजह

53

 

पंजाब में तैनात IPS अफसर ध्रुमन निंबले के तबादले पर CM भगवंत मान की अगुवाई वाली AAP सरकार घिर गई है। मान सरकार ने उन्हें होशियारपुर से बदलकर मुक्तसर में SSP लगाया है। कुछ दिन पहले ही उन्होंने होशियारपुर में माइनिंग यानी रेत खान से जुड़े गुंडा टैक्स का रैकेट पकड़ा था। जिसमें 1.53 करोड़ की रिकवरी हुई थी।

कांग्रेस विधायक परगट सिंह ने इस पर सवाल खड़े किए हैं उन्होंने कहा कि जिस अफसर ने माइनिंग माफिया के खिलाफ कार्रवाई की हिम्मत दिखाई, उसे 5 दिन में ही बदल दिया गया। CM भगवंत मान ने उनका उत्साह बढ़ाने की जगह ट्रांसफर कर दिया। मुझे उम्मीद है, यह बदलाव नहीं होगा।

3 जिलों में अवैध माइनिंग के 100 से ज्यादा केस दर्ज किए, 8 साल में 18 ट्रांसफर
ध्रुमन निंबले 2010 बैच के IPS अफसर हैं। तरनतारन, मोगा और होशियारपुर में SSP रहते हुए उन्होंने अवैध रेत खनन पर पूरी सख्ती की। उन्होंने इससे जुड़े 100 से ज्यादा केस दर्ज किए। एक हफ्ते पहले ही उन्होंने खुद को सरकारी अफसर बताकर गुंडा टैक्स इकट्‌ठा करने वाले गैंग को पकड़ा था। ध्रुमन निंबले की पिछले 8 साल में 18 बार ट्रांसफर हो चुकी है। पिछली 2 ट्रांसफर के वक्त पंजाब में कांग्रेस की सरकार थी।

AAP का बदलाव, इनाम की जगह तबादला किया : बाजवा
कांग्रेस MLA प्रताप सिंह बाजवा ने कहा कि यह काफी चौंकाने वाला है कि 1.53 करोड़ रुपए रिकवर कर रेत माफिया गैंग को पकड़ने वाले होशियारपुर के SSP को बदल दिया गया। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी के बदलाव की जगह अफसरों को इनाम में तबादला दिया जा रहा है।

गुंडा टैक्स वसूलने वाले गिरोह के सदस्य, जिन्हें पुलिस ने पकड़ा था

गुंडा टैक्स वसूलने वाले गिरोह के सदस्य, जिन्हें पुलिस ने पकड़ा था

AAP ने दिया था रेत माफिया खत्म करने का भरोसा
एक अफसर को लेकर कॉन्ट्रोवर्सी की बड़ी वजह आम आदमी पार्टी का चुनावी वादा है। आप ने भरोसा दिया था कि वह रेत माफिया को खत्म करेंगे। इसके लिए सरकार नई पॉलिसी भी बना रही है। इसके बावजूद रेत माफिया पर कार्रवाई करने वाले अफसर को बदल दिया गया।

यह रूटीन फेरबदल, राजनीति नहीं होनी चाहिए : AAP
AAP नेता मालविंदर कंग ने कहा कि यह रूटीन बदलाव है। इसे किसी खास बात से नहीं जोड़ना चाहिए। उन्होंने कहा कि सिर्फ होशियारपुर नहीं बल्कि मोहाली और पटियाला के भी SSP बदले गए। यह सरकार का रूटीन प्रशासनिक फेरबदल है। इसे किसी राजनीति से जोड़कर सवाल नहीं उठाने चाहिए।

 

खबरें और भी हैं…

.