पंजाब में भी इस्तेमाल होगा दिल्ली का फॉर्मूला

66
Hindustan Hindi News

 

पंजाब की सत्ता हासिल करने के बाद आम आदमी पार्टी दिल्ली के स्वास्थ्य मॉडल को यहां भी लागू करने की घोषणा कर दी है। पंजाब में भगवंत मान की सरकार ने राज्यभर में 16000 मोहल्ला क्लीनिक खोलने का ऐलान कर दिया है। इसके साथ-साथ राज्य के हर निवासी को एक स्वास्थ्य कार्ड देने के ऐलान के साथ ही सभी सरकारी डॉक्टरों को निजी प्रैक्टिस से दूर रहने की सलाह भी दी गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक पंजाब के स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ विजय सिंगला ने सोमवार को घोषणा की कि आम आदमी पार्टी की सरकार राज्य भर में 16000 मोहल्ला क्लीनिक स्थापित करेगी। उन्होंने कहा कि इसके अलावा सरकार राज्य के हर निवासी को एक स्वास्थ्य कार्ड देगी। सिंगाल ने सरकारी डेंटल कॉलेज (जीडीसी) पटियाला में आयोजित एक वार्षिक समारोह में सभा को संबोधित करते हुए यह घोषणाएं कीं। सिंगला के साथ पटियाला शहरी और ग्रामीण के विधायक अजीत पाल सिंह कोहली और डॉ बबलीर सिंह उपस्थित थे।

सरकारी डॉक्टरों को निजी प्रैक्टिस से दूर रहने की सलाह

सिंगला जो कि खुद एक डेंटल सर्जन हैं, ने कहा कि ग्रामीण स्वास्थ्य सेवा में सुधार के अलावा, सरकारी मेडिकल कॉलेजों जैसे स्वास्थ्य संस्थानों में भी सुधार की जरूरत है। उन्होंने सरकारी मेडिकल कॉलेजों के डॉक्टरों से निजी प्रैक्टीस से दूर रहने का आग्रह किया है। सिंगला ने कहा हम सभी को नॉन प्रैक्टिस अलाउंस मिलता है। निजी प्रैक्टिस में लिप्त होने के बजाय, एक डॉक्टर को सरकारी अस्पताल में गरीब मरीजों के लिए एक घंटा अतिरिक्त देना चाहिए। 

किसी को एक पैसा देने की जरूरत नहीं: सिंगला

सिंगला ने आगे कहा कि उनके पास सिस्टम को ओवरहाल करने के लिए जादू की छड़ी नहीं है, इसलिए उन्हें सभी के समर्थन की जरूरत है। स्वास्थ्य सिस्टम में व्याप्त भ्रष्टाचार के लिए डॉक्टरों की ओर से निजी प्रैक्टिस को जिम्मेदार ठहराते हुए सिंगला ने आरोप लगाया कि पिछली सरकारों में डॉक्टरों को सिविल सर्जन, निदेशक और मंत्रियों को मासिक रूप से पैसा देना पड़ता था। अब उन्हें किसी को एक पैसा भी देने की जरूरत नहीं है।