शिकायतों का निपटारा: पंजाब सीएम एंटी करप्शन हेल्पलाइन नंबर जारी होने के एक हफ्ते में ही डेढ़ लाख शिकायतें, हर मिनट में 15 सिर्फ दो मामलों में एफआईआर

55
Quiz banner

 

हर मिनट में 15 सिर्फ दो मामलों में एफआईआर

पंजाब के सीएम भगवंत मान ने शहीद-ए-आजम भगत सिंह की शहीदी दिवस पर 23 मार्च को पंजाब में एंटी करप्शन हेल्पलाइन नंबर 9501200200 की शुरुआत की थी। एक सप्ताह में ही इस हेल्पलाइन पर भ्रष्टाचार की 1 लाख 52 हजार 30 से भी अधिक शिकायतें पंजाब के लोगों ने वीडियो और ऑडियो से भेज दी है।

इन शिकायतों में से सिर्फ दो पर एफआईआर पंजाब विजिलेंस ब्यूरो की ओर से दर्ज कर कार्रवाई भी शुरू कर दी गई है। इनमें से एक एफआईआर जालंधर रेंज विजिलेंस पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई है, जबकि दूसरी एफआईआर सोमवार देर रात को अमृतसर के विजिलेंस रेंज पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई है।

पहली दर्ज एफआईआर रेवेन्यू विभाग से संबंधित तो दूसरी पुलिस कर्मचारियों पर दर्ज

जिन दो शिकायतों में एफआईआर दर्ज की गई है, उनमें पहली रेवेन्यू विभाग की और दूसरी पुलिस विभाग से संबंधित है। 4 दिन पहले इस हेल्पलाइन पर आई शिकायत के आधार पर जालंधर रेंज में एफआईआर दर्ज कर जालंधर की तहसील में काम करने वाली महिला क्लर्क मीनू को नौकरी दिलवाने के नाम पर 4.80 लाख रुपए रिश्वत लेने के मामले में पकड़ा गया है। वहीं सोमवार देर रात को दूसरी एफआईआर अमृतसर रेंज (एफआईआर नंबर-1) झबाल पुलिस स्टेशन के एएसआई गुरदास सिंह, मुख्य सिपाही सुकेश कुमार, मुख्य मुंशी बलविंदर सिंह तथा पीएचजी रत्तन लाल पर दर्ज की गई है। इनमें से एएसआई गुरदास सिंह तथा मुंशी बलविंदर सिंह को विजिलेंस टीम ने अरेस्ट भी कर लिया है। एफआईआर विक्रमजीत सिंह निवासी तत्ले थाना भिखीविंड जिला तरनतारन की शिकायत पर दर्ज की गई थी। 12 साल पहले फंसे 6 लाख वापस दिलवाने के नाम पर मामले में रिश्वत का खेल खेला गया।

मोहाली बना हेडक्वार्टर, पंजाब को 7 विजिलेंस रेंज में बांटा

इस हेल्पलाइन पर आई शिकायतों का निपटारा करने के लिए मोहाली को मुख्य हैडक्वार्टर बनाया गया है। जबकि पंजाब के अन्य जिलों को 7 रेंज में बांटा गया है। जिस किसी भी डिपार्टमेंट से सबंधित शिकायत आएगी वह सीधे मोहाली के हैडक्वार्टर में भेजी जाएगी और उसके बाद एरिया अनुसार उनको विजिलेंस रेंज को भेज दिया जाता है। प्रत्येक रेंज की जिम्मेदारी एक एसएसपी विजिलेंस को दी गई है, जो उनके रेंज में आई किसी भी डिपार्टमेंट के भ्रष्टाचार से संबंधित शिकायत पर काम शुरू कर देता है। उसी रेंज में बनाई गई टीमें उस शिकायत को वेरिफाई से लेकर गहनता से जांच और फिर एफआईआर दर्ज करने तक की कार्रवाई करते हैं।

ये रेंज बनाई गई हैं

  • रोपड़ और मोहाली
  • अमृतसर
  • जालंधर
  • लुधियाना
  • पटियाला
  • फिरोजपुर
  • बठिंडा

प्रावधान- करप्शन एक्ट में 7 साल सजा व जुर्माना

दोनों मामलों में विजिलेंस की ओर से सेक्शन-7 प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट-1988 संंशोधित प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट 2018 तथा 120बी की धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। करप्शन एक्ट में 7 साल सजा व जुर्माने का प्रावधान है, 120बी में सजा अधिक होती है। जुर्म कोर्ट में सिद्धू (दोषी पाए जाने पर) होने पर सजा आजीवन कारावास तक बढ़ सकती है।

अमृतसर में मामला दर्ज, विजिलेंस ने रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा

मंगलवार को अमृतसर विजिलेंस रेंज में एक और एफआईआर दर्ज की गई, लेकिन यह हेल्पलाइन नंबर पर नहीं बल्कि विजिलेंस को लिखित में मिली थी। जिसमें शिकायकर्ता नवदीप सिंह अमर एवेन्यू अमृतसर ने बताया गतदिवस उनकी एक्टिवा एक ई-रिक्शा से टकरा गई। दोनों पार्टियों में आपसी समझौता हो गया लेकिन फिर भी एएसआई कुलदीप सिंह उनसे 5 हजार की मांग बार बार कर रहा था। जिसकी उनके पास ऑडियो भी है। इसी के आधार पर विजिलेंस ने शिकायत मिलने के बाद एएसआई कुलदीप को रंगे हाथों मंगलवार बाद दोपहर पकड़ लिया।