दिल्ली में कोरोना की रफ्तार से अटकी सांसें (Breathing stuck at the speed of Corona in Delhi)

54
दिल्ली में कोरोना की रफ्तार से अटकी सांसें, डरा रहे हैं ताजा आंकड़े

 

Highlights

  • बुधवार को कोविड-19 के 1,009 नए मामले सामने आए, जो एक दिन पहले की तुलना में 60 प्रतिशत अधिक हैं।
  • बुधवार को आया आंकड़ा 10 फरवरी के बाद से दिल्ली में दर्ज किए गए मामलों की अधिकतम संख्या है।
  • राजधानी में संक्रमण बढ़ने के साथ ही 11 अप्रैल को उपचाराधीन रोगियों की संख्या 601 से बढ़कर 2,641 हो गई।

नयी दिल्ली: दिल्ली में कोरोना वायरस की बढ़ती रफ्तार ने एक बार फिर लोगों को चिंता में डाल दिया है। शहर में बुधवार को कोविड-19 के 1,009 नए मामले सामने आए, जो एक दिन पहले की तुलना में 60 प्रतिशत अधिक हैं। बीते 24 घंटों में संक्रमण से एक शख्स की मौत भी हुई है। बुधवार को आया आंकड़ा 10 फरवरी के बाद से दिल्ली में दर्ज किए गए मामलों की अधिकतम संख्या है। दिल्ली में 10 फरवरी को कोविड-19 के 1,104 मामले सामने आए थे। एक दिन पहले कुल 17,701 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच हुई थी, जिनमें से 5.7 प्रतिशत में संक्रमण की पुष्टि हुई।

मंगलवार को आए तए 632 नए मामले

दिल्ली में मंगलवार को कोविड के 632 मामलों के साथ संक्रमण दर 4.42 प्रतिशत दर्ज की गई थी। इससे एक दिन पहले 501 मामले आए और संक्रमण दर 7.72 प्रतिशत रही। राजधानी में संक्रमण बढ़ने के साथ ही 11 अप्रैल को उपचाराधीन रोगियों की संख्या 601 से बढ़कर 2,641 हो गई। हालांकि, अस्पताल में भर्ती होने की दर अब तक कम ही है। यह कुल उपचाराधीन मामलों के 3 प्रतिशत से भी कम है। दिल्ली के अस्पतालों में इस समय कोविड-19 के 54 मरीज भर्ती हैं। इनमें 1,578 गृह पृथक-वास में उपचाराधीन हैं।

मास्क न पहनने पर लगेगा 500 रुपये का जुर्माना

अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों के लिए उपलब्ध 9,737 बिस्तरों में से सिर्फ 91 पर ही कोविउ-19 के मरीज हैं। मामलों में वृद्धि को देखते हुए दिल्ली सरकार ने बुधवार को सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया और इसका उल्लंघन करने वालों पर 500 रुपये का जुर्माना लगाने की घोषणा की। दिल्ली सरकार ने मामलों में कमी के मद्देनजर 12 अप्रैल को मास्क नहीं पहनने पर जुर्माना हटा लिया था।

दिल्ली में अभी बंद नहीं किए जाएंगे स्कूल

अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) ने स्कूलों को बंद नहीं करने का फैसला किया है और वह विशेषज्ञों के परामर्श से एक अलग मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) के साथ आएगा। दिल्ली ने राजधानी में सभी संक्रमितों के नमूनों का जीनोम अनुक्रमण भी शुरू कर दिया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या किसी नए स्वरूप जैसे कि एक्सई स्वरूप का संक्रमण तो दिल्ली में नहीं फैल गया है।